आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, गोरक्ष प्रांत की दो दिवसीय ऑनलाइन प्रांत समीक्षा योजना बैठक दिग्विजय नाथ स्नातकोत्तर महाविद्यालय में संपन्न हुई। इस बैठक में 9 जुलाई (राष्ट्रीय विद्यार्थी दिवस),19 नवंबर (रानी लक्ष्मीबाई जयंती), 6 दिसंबर (सामाजिक समरसता दिवस),12 जनवरी युवा दिवस (स्वामी विवेकानंद जयंती), 12 से 23 जनवरी (युवा पखवाड़ा), 23 जनवरी (सुभाष चंद्र बोस जयंती) – रक्तदान शिविर, 08 मार्च (नारी शक्ति दिवस), प्रतिभा सम्मान समारोह (समीक्षा), एक जिला एक कार्यक्रम, मिशन साहसी, आयामों के कार्यक्रम, संगठनात्मक समीक्षा एवं योजना

सदस्यता वर्ष (2019-20), ऑनलाइन सदस्यता (2020), सदस्य सम्मेलन, कार्यकारिणी गठन (इंटर/महाविद्यालय/ विश्वविद्यालय/ इंजीनियरिंग/मेडिकल/पॉलीटेक्निक/आईटीआई,अन्य), सेल्फी विथ कैंपस : मीनिंगफूल कैंपस, आनंदमयी एवं सार्थक छात्र जीवन, व्हाट्सएप संपर्क तंत्र (नगर/कॉलेज), बैठक (इकाई/नगर/जिला समिति), प्रवास (कार्यक्रमात्मक एवं संगठनात्मक), प्रवासी कार्यकर्ता (नगर/ जिला/ प्रांत), आयाम कार्य ( SFD, SFS, RKM, AGRIVISION, MEDIVISION, etc.), छात्रा कार्य (जिला स्तर छात्रा टोली), कार्यालय- कार्यालय मंत्री: डॉक्यूमेंटेशन (जिला स्तर)
कोष (आय,व्यय), वर्ष का बजट, कार्यशालायें (नगर अध्यक्ष/मंत्री, कॉलेज अध्यक्ष/मंत्री (आयामों के कार्यशालाएं) वर्ष 2020-2021 में प्राथमिकताएं एवं आग्रह के मुद्दे,
प्रकाशन (स्मृति मंजूषा, त्रैमासिक पत्रिका), ऑनलाइन स्वाध्याय मंडल (प्रांत/जिला), कोरोना महामारी सेवा कार्य, छात्रसंघ चुनाव, “अविष्कारम्”, प्रौद्योगिकी प्रदर्शनी 2021, वुमन हाइजीन कैंपेन (1,00,000 छात्राओं तक संपर्क) बिंदुओं पर पूरे विस्तार से चर्चा हुई।
बैठक में ऑनलाइन माध्यम से जुड़े अखिल भारतीय विश्वविद्यालय प्रमुख श्रीहरि बोरिकर ने कहा कि इस वैश्विक महामारी के समय में भी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का कार्य निश्चित तौर पर सामाजिक रूप से बढ़ा है। विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता विपरीत परिस्थितियों व कठिन चुनौतियों में भी रास्ते निकाल लेते हैं। कोरोना वैश्विक महामारी में परिषद द्वारा किया गया सेवा कार्य सराहनीय है। अभाविप के पूर्वी उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय संगठन मंत्री रमेश गड़िया ने कहा कि परिषद शिक्षा क्षेत्र में कार्य अवश्य करता है किंतु देश- समाज पर आने वाले संकटों का सामना भी बढ़- चढ़ कर करता है। उन्होंने आगे कहा कि कोरोना महामारी का संकट अभी जाने वाली नहीं है, इसलिए हमें राष्ट्र के साथ खड़ा होकर राष्ट्र प्रथम के भाव से समग्र जनमानस के लिए कार्य करना चाहिए। साथ ही उन्होंने इकाई, कार्यकर्ता, संगठन के कार्य जैसे- प्रकृति आधारित जीवन, स्वच्छता अभियान, ग्रीन कैंपस- क्लीन कैंपस, फाइटिंग फ्री कैंपस, राष्ट्रवादी कैंपस, सांस्कृतिक कैंपस बनाने में एबीवीपी की भूमिका के विषय पर प्रान्त के कार्यकर्ताओं से योजना बनाकर उसके क्रियान्वयन हेतु आह्वान किया।
समीक्षा के निमित्त प्रान्त सहमंत्री अभिषेक हरि सिंह द्वारा सेवाकार्य का वृत्त रखते हुए बताया गया कि प्रान्त के 10 जिलों में 135 स्थानों पर कुल 550 कार्यकर्ताओं द्वारा 21,500 राशन किट, 1,01,588 भोजन पैकेट,12,500 मास्क का वितरण किया गया। पीएम केयर्स में विद्यार्थियों एवं समाज से आग्रह के माध्यम से ₹16,73,884 भेजा गया। साथ ही 131 कार्यकर्ताओं द्वारा रक्तदान भी किया गया। गत वर्ष कुल सदस्यता 1,29,261 हुई, जोकि अबतक की सबसे अधिक रहा। इस वर्ष ऑनलाइन सदस्यता का लक्ष्य 1,01,000 रखा गया है जोकि दो चरणों में पूरा होगा। 15-16 सितंबर को प्रान्त में 49,500
तथा शेष 49,500 का लक्ष्य 17 से 24 सितंबर पूरा किया जाएगा। इस वर्ष प्रान्त में कुल 1200 इकाई ऑनलाइन व भौतिक रूप से बनाये जाने का लक्ष्य लिया गया है।
बैठक का संचालन प्रान्त अध्यक्ष प्रो. सुषमा पांडेय ने किया। बैठक में विशेष रूप से राष्ट्रीय सहछात्रा प्रमुख प्रो. उमा श्रीवास्तव, प्रान्त संगठन मंत्री आनंद गौरव, प्रान्त कार्यसमिति के विशेष आमंत्रित सदस्य डॉ. राजशरण शाही, केंद्रीय कार्यसमिति सदस्य भूपेंद्र सिंह राणा सहित प्रान्त के सभी जिलों के संगठन मंत्री, विभाग संगठन मंत्री सहित कुल 57 पदाधिकारी ऑनलाइन एवं भौतिक रूप से उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here