डाक टाइम्स न्यूज ब्यूरो महराजगंज। जब रक्षक ही बन जाएं भक्षक तो न्याय पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हो जाता है ऐसा ही हाल वन्य जीव प्रभाग महराजगंज के सोहगीबरवां वन्य जीव प्रभाग का है जहां वनों की सुरक्षा में तैनात जिम्मेदार ही वनों के बेशकिमती बेंत और लकड़ियां बेचने का नया नया रास्ता निकाल रहे हैं और बेंच रहें हैं। नया मामला सोहगीबरवां वन्य जीव प्रभाग महराजगंज के निचलौल रेंज अन्तर्गत डोमा, गंडक, कलनही, आदि बीटो का है

जहां के जंगलों के बेंत को काटकर वन विभाग के कर्मियों द्वारा ही डोमा रेंज चौकी पर वन गोदाम पर रखवा दिया जा रहा है और C C1 लाट के नाम पर बड़े आसानी से नजदीकी बेंत माफियाओं को बेंच दिया जा रहा है।
डाक टाइम्स न्यूज/समाचार पत्र के कैमरे में कैद हुए तस्वीर/वीडियो चिख चिख कर वनों में बेंत का अवैध कटान और डोमा रेंज चौकी पर रखें गए ताज़े बेंत बंडल यह बताने के लिए पर्याप्त है कि वन विभाग के मिलीभगत से ही जंगल से बेंत और लकड़ियां डोमा चौंकी से तस्करों तक पहुंचाई जा रही है। और निचलौल रेंज का डोमा चौंकी मूफिद जगह बना हुआ है।
डाक टाइम्स न्यूज/समाचार पत्र के पत्रकार जब उक्त प्रकरण के पड़ताल के लिए कटान स्थलों पर पहुंचे तो जंगल में बेंत बंडल जहां तहां छुपाए हुए जगह जगह बिखरे मिलें तो कुछ बिना बंडल बांधे बेंत भी मिलें पत्रकारों की टीम जब डोमा रेंज चौकी पर पहुंच वन गोदाम को कैमरे में कैद कर लिया। उक्त संबंधित डोमा शीट के जंगलों के बेंत हरे और ताजे लगभग सैकड़ों बंडल उक्त डोमा रेंज चौकी के गोदाम में मिले। हरे बेंत बंडलों के अतिरिक्त सुखे बेंत बंडलों का भी (जो कुछ महीनों पहले का कटे हुए थे) भी मिलें। इस आशय की जानकारी जब डोमा रेंज चौकी पर उक्त समय उपस्थित मिलें वनकर्मी ने उक्त हरे बेंत बंडलों के विषय में
पुछने पर बताया कि पुराने केस का बेंत है जब इस गोदामों में रखें बेंत बंडलों के बाबत रेंज अधिकारी निचलौल से उनके फोन नंबर पर बात किया गया तो उन्होंने बताया कि उक्त बेंत बंडल 2021-22 के रेंज केस से संबंधित है। हरे और ताजे बेंत बंडल होने के बात पर समुचित ज़बाब न देते हुए उनका कहना है कि बेंत हरे हो जातें हैं। तो वही एसडीओ निचलौल ने कहा की रेंजर से मामले की जानकारी ले रहे हैं जांच कर कार्रवाई कराएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here