डाक टाइम्स न्यूज समाचार पत्र ब्यूरो महराजगंज।
जनपद महराजगंज के नेपाल राष्ट्र से सटे सरहदी क्षेत्रो में तस्करों की चांदी ही चांदी है जिम्मेदार एजेंसीया भारतीय नियमों कानूनो के आड़ में सरहदी क्षेत्रो में हो रहे तस्करी को और तस्करों को बचाने के लिए ठाल बना कर स्तेमाल कर रही है। महराजगंज जिले का सीमावर्ती थाना ठूठीबारी निचलौल आदि में वर्षों से पांव पसारे हुए कबाड़ का गोरख धंधा तस्करी के लिए मुफीद गोरख धंधा बना हुआ है इसकी आड़ में नेपाल राष्ट्र से नेपाली बैटरी, टायर, प्लास्टिक आदि कबाड़ के रूप में भारतीय सीमा में बने कबाड़ के अड्डे पर बड़े पैमाने पर लाया जाता है।

इकट्ठा कर बड़े बड़े ट्रक और कैनटेनर के माध्यम से संबंधित फैक्टरी को भेज दिया जाता है। कुछ मामले जब मिडिया की सुर्खियां बनती है तो जिम्मेदार एजेंसीया उक्त कबाड़ को भारतीय विल और टेक्स पेड़ बताकर छोड़ देती है या जुर्माना लगाया कर छोड़ देती है। लेकिन जिम्मेदार एजेंसीया कभी भी सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थित कबाड़ की कारोबारियों से कबाड़ कहा से आया कबाड़ियों का स्टाक में क्रय का स्रोत तथा विक्रय का मिलान नहीं करती हैं। ठूठीबारी थाना क्षेत्र के भरवलीया में दीपक कबाड़ी, ठूठीबारी और नौवाबारी में संतोष कबाड़ी, राजाबरारी में बसंत तो वहीं नौवाबारी में सतीश कबाड़ी आदि बड़े कारोबारी सीमाई इलाके में नेपाली कबाड़ को खपाने के अड्डे बने हुए हैं सूत्रों की मानें तो जिम्मेदार एजेंसीया मोटी रकम हर माह वसूल रही है और कारोबारीयो की चादी ही चांदी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here