जनपदीय स्तरीय किसान दिवस का आयोजन कलेक्ट्रेट सभागार में मुख्य विकास अधिकारी गुंजन द्विवेदी की अध्यक्षता में संपन्न हुआ। बैठक में किसानों द्वारा प्रस्तुत समस्याओं में धान की खेती के वर्षा ना होने से प्रभावित होने, नहरों में पानी नहीं आने की समस्या, नहरों में गंदगी, सिल्ट की समस्या, ट्यूबवेल में पानी ना आने की समस्या, नहरों पर अतिक्रमण की समस्या, पी एम किसान सम्मान निधि में पैसे नहीं आने की समस्या आदि समस्याएं गिनाई गई। अपर जिलाधिकारी देवी दयाल वर्मा द्वारा किसानों को कहा गया कि यदि आपके द्वारा कोई फसल को बदल कर दूसरी फसल की बुवाई की जाती है तो उसकी सूचना तथा रकबा बदलने की सूचना कृषक उपलब्ध करावें। ट्यूबवेल में पानी नहीं मिलने की समस्या पर मुख्य विकास अधिकारी ने अधिशासी अभियंता नलकूप को रिपोर्ट सौंपे जाने को निर्देशित किया। नहरों की सफाई नहीं मिलने पर अधिशासी अभियंता को मौके पर जाकर निरीक्षण के निर्देश दिए गए। नहरों पर अतिक्रमण की समस्या के निस्तारण हेतु मुख्य विकास अधिकारी ने स्थलीय निरीक्षण के बाद नोटिस जारी कर संबंधित के खिलाफ एफ आई आर दर्ज करने को निर्देशित किया। जनपद को सूखाग्रस्त घोषित करने की कृषकों की मांग के संदर्भ में मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि इस संदर्भ में शासन को रिपोर्ट भेजी जा चुकी है। बारिश का पानी खेतों में आ जाने तथा अवैध मत्स्य पालन के संदर्भ में मुख्य विकास अधिकारी ने अवैध मछली पालन की स्थलीय जांच हेतु निर्देशित किया एवं उक्त कृत्य पर एफ आई आर दर्ज किए जाने के निर्देश दिए। बैठक में अधिशासी अभियंता विद्युत पडरौना के अनुपस्थित होने पर मुख्य विकास अधिकारी ने संबंधित के खिलाफ स्पष्टीकरण जारी करने का निर्देश दिया। बैठक में कृषि रक्षा इकाईयों पर कीटनाशक की उपलब्धता सुनिश्चित किए जाने के संदर्भ में भी चर्चा हुई व आगे रबी फसलों हेतु इस संदर्भ में कीटनाशकों की मांग को पहले ही शासन स्तर पर भेज दिए जाने के बारे में किसानों ने आग्रह किया। इस अवसर पर उप कृषि निदेशक आशीष कुमार, परियोजना निदेशक जगदीश त्रिपाठी, डी सी मनरेगा राकेश कुमार, भू संरक्षण अधिकारी बी आर मौर्य, कृषक प्रतिनिधिगण व अन्य संबंधित अधिकारी गण तथा कृषक गण मौजूद रहे।

                       विज्ञापन                         

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here