गोरखपुर। गेहूं खरीद में बोरे की उपलब्धता को लेकर सरकार द्वारा मांगे गए आवेदन की शर्त से गोरखपुर की फैक्ट्रियां बिना प्रतिस्पर्धा के ही बाहर हो गई हैं। खाद आयुक्त द्वारा जेम पोर्टल पर जो डिमांड मांगी गई है, उसके मुताबिक फर्म को 40 लाख बोरे की आपूर्ति महज 40 दिनों में करनी है। इस शर्त से गोरखपुर की फैक्ट्रियां बाहर हो गई हैं। वजह ये 8 से 12 लाख बोरे की ही आपूर्ति कर सकती हैं। उद्यमियों ने मांग रखी है कि मध्यप्रदेश समेत दूसरे राज्यों की तर्ज पर आपूर्ति की शर्त होनी चाहिए। जिससे छोटी फैक्ट्रियों को भी लाभ हो सके।
प्रदेश में गेहूं खरीद सत्र शुरू होने वाला है। इसे लेकर विभाग की तरफ से तैयारियां शुरू हो गई हैं। पिछले दिनों खाद आयुक्त द्वारा बोरे की खरीद को लेकर जेम पोर्टल पर आवेदन मांगा गया था। जिसमें फर्म को 40 दिन के अंदर 40 लाख बोरा आपूर्ति की शर्त रखी गई है। इसके साथ ही अनुभव के पेच को भी लगा दिया गया है। गोरखपुर के गीडा और इंडस्ट्रियल एरिया में बोरा बनाने वाली चार फैक्ट्रियां हैं। इन फैक्ट्रियों की आपूर्ति क्षमता 3 से 4 बंडल यानी 9 से 12 लाख बोरे की है। लघु उद्योग भारती के अध्यक्ष दीपक कारीवाल ने इस बाबत खाद्य आयुक्त को पत्र लिखकर बोरे की मात्रा और अनुभव की शर्त को हटाने का अनुरोध किया है।

लघु उद्योग भारती का कहना है कि न्यूनतम 40 लाख बोरे की आपूर्ति मात्र 40 दिनों में करने की शर्त से लघु उद्यमी प्रतिस्पर्धा की दौड़ से बाहर हो जाएंगे। आपूर्ति के लिए संख्या 10-12 लाख बोरा कर दिया जाय। बोरे का उत्पादन करने वाली फैक्ट्री के मालिक अशोक शाह का कहना है कि खाद्य विभाग की इस शर्त से छोटे उद्यमी दौड़ से बाहर हो जाएंगे। कोई नया उद्यम लगेगा तो वह शून्य से ही शुरू होगा। सरकार को छोटे उद्यमियों को लेकर विशेष योजना बनानी चाहिए।

अनुभव की शर्त हटाएं

लघु उद्योग भारती के अध्यक्ष दीपक कारीवाल का कहना है कि सरकारी खरीद के टेंडरों में कुछ न कुछ पेच लगा दिया जाता है जिससे छोटे उद्यमी पहले ही टेंडर से बाहर हो जाते हैं। टेंडर में पूर्व अनुभव होना चाहिए, इस बिंदु के कारण नया उद्योग लगाने वाला उद्यमी कैसे भाग ले सकेगा, और सही मायने में जब कोई टेंडर मिलेगा तभी उसको अनुभव होगा। पूर्व अनुभव की शर्त पर तो वह कभी टेंडर नही ले पायेगा। ऐसे में सरकारी खरीद में छोटे उद्यमियों को ध्यान में रखते हुए इस तरह के पेच लगाने की बजाय उन्हें बढ़ावा देने के बारे में सोचना चाहिए

1 COMMENT

  1. Do you mind if I quote a couple of your posts as long as I provide credit and sources back to your website?
    My blog is in the very same area of interest as yours and
    my users would certainly benefit from a lot of the information you present here.
    Please let me know if this okay with you. Regards!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here