गोरखपुर/महाशिवरात्रि पर एक महिला ने शिवमंदिर में शिवलिंग के सामने जैसे ही मत्‍था टेका उनकी मौत हो गई। साथ में खड़े महिला के पति को काफी देर तक पत्‍नी की मौत का पता ही नहीं चला। उन्‍हें लगा कि रोज भोर में भगवान शिव को जल चढ़ाने वाली उनकी पत्‍नी महाशिवरात्रि की वजह से ध्‍यान में लीन हो गई हैं। जब काफी वक्‍त बीत गया तो उन्‍होंने पत्‍नी को उठाने की कोशिश की लेकिन तब तक उनके प्राण पखेरू उड़ चुके थे।
यह वाकया अब पूरे इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार गोरखपुर के नौसड़ चौक के पास स्थित हैरया गांव की विभक्ति देवी (उम्र 60 वर्षीय) अपने पति जमुना प्रसाद कसौधन (उम्र 65 वर्षीय) के साथ महाशिवरात्रि के मौके पर बाबा भोलेनाथ जी का पूजन-अर्चन करने गांव के शिवमंदिर पर गई थीं। वह रोज भोर में इस मंदिर पर जल चढ़ाने आया करती थीं। बताया जा रहा है कि महाशिवरात्रि के दिन विभक्ति देवी ने जैसे ही शिवलिंग के सामने मत्‍था टेका उनका शरीर शांत पड़ गया। वह उसी तरह कई मिनट तक रहीं।
पति जमुना प्रसाद कसौधन को लगा कि वह ध्‍यान में लीन हो गई हैं लेकिन कुछ और समय बीतने पर उन्‍हें चिंता हुई। उन्‍होंने कई बार आवाज लगाई लेकिन विभक्ति देवी के शरीर में कोई हलचल नहीं हुई। वह वैसे ही पड़ी रहीं। उनके पोते रमेश कुमार ने बताया कि जब कई बार पुकारने के बाद भी जवाब नहीं मिला तो बाबा जमुना प्रसाद ने उनको छुकर देखा। तब पता चला कि शरीर शांत पड़ा है। विभक्ति देवी को आनन फानन में नजदीकी अस्‍पताल ले जाया गया जहां डॉक्‍टरों ने उन्‍हें मृत घोषित कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here