डाक टाइम्स कुशीनगर। जिलाधिकारी एसo राजलिंगम ने जुलाई माह में प्रस्तावित विशेष संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान की तैयारी बैठक में निर्देश दिये कि इस अभियान को प्रभावी ढंग से संचालित करें, ताकि जेई एवं एईएस के कम से कम केसेज हो।
कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित तैयारी बैठक में उन्होंने कहा कि आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकत्री घर-घर जाकर 01 जुलाई से बुखार के रोगी, इनफ्लुएंजा लाइक इलनेस(आईएलआई), टीबी रोगी तथा कुपोषित बच्चों की सूची तैयार करेंगी। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया कि माइक्रोप्लान के अनुसार तिथिवार एवं क्षेत्रवार गतिविधियां की जाएंगी इसमें किसी प्रकार का अंतर नहीं होना चाहिए।
उन्होंने सभी उप जिलाधिकारी, खंड विकास अधिकारी तथा प्रभारी चिकित्साधिकारियों को निर्देशित किया कि अभियान की गतिविधियों को गति प्रदान करने के लिए प्रतिदिन शाम को बैठक आयोजित कर समीक्षा की जाए तथा दिन में पाई गई कमियों को दूर किया जाए। उन्होंने कहा कि जेई ,एईएस की दृष्टिकोण से जनपद कुशीनगर अति संवेदनशील क्षेत्र उन्होंने निर्देश दिया कि जो हाई रिस्क गांव चिन्हित किए गए हैं। इन गांव में सभी विभाग प्राथमिकता पर समय से सभी क्रियाकलापों को गुणवत्तापूर्ण पूरा करें।
श्री लिंगम ने कहा कि इस दौरान कोविड-19 प्रोटोकाल का पूरी तरह पालन किया जाए।
उन्होंने शुद्ध पेयजल की व्यवस्था के सम्बन्ध में आवश्यक प्रबंध किए जाने हेतु निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि ये सुनिश्चित किया जाए कि छोटे हैंडपंप का पानी पीने और खाना बनाने के प्रयोग में न लाया जाए। उन्होंने स्वास्थ्य, नगर पालिका एवं नगर पंचायत, पशुपालन, कृषि , जल निगम, उद्यान, शिक्षा, महिला एवं बाल कल्याण, पंचायती राज सिंचाई दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के अधिकारियों को इस अभियान को प्रभावी ढंग से संचालित करने का निर्देश दिया।
जिलाधिकारी ने जलजमाव की समस्या तथा फागिंग एवं एंटी लारवा छिड़काव हेतु इस बैठक में निर्देशित किया ।फागिंग मशीन समय से नहीं खरीदने पर डीपीआरओ को उन्होंने फटकार भी लगाई तथा इस संबंध में स्पष्टीकरण देने को कहा गया। संचारी रोग से सर्वाधिक प्रभावित तमकुहीराज के बारे में उन्होंने पूछताछ की तथा ब्लॉक लेवल मीटिंग के लिए सभी एसडीएम को निर्देशित किया। जिलाधिकारी ने सभी एसडीएम , बीडियो एवं इ0ओ0 को निर्देश देते हुए कहा कि ए इ एस व जे ई के बारे में हमें गंभीर होने की आवश्यकता है। इस संबंध में उन्होंने सीएमओ को ए इ एस तथा जे ई के मामले के मामले में समय से सूचना उपलब्ध नहीं करवाने पर स्पष्टीकरण के निर्देश दिए। उन्होंने कहा एसडीएम की अध्यक्षता में टास्क फोर्स गठित हो , उनके द्वारा क्षेत्र में विजिट किया जाए तथा यह देखा जाए कि जलभराव, अतिक्रमण, चूहे की समस्या इत्यादि को लेकर क्या समस्या है ।बच्चों को यदि बुखार हो तो इसकी सूचना तत्काल दी जानी चाहिए। संबंधित आशा द्वारा समय से सूचना उपलब्ध नहीं करवाए जाने पर बर्खास्तगी की कार्यवाही हो सकती है। इस संदर्भ में बेसिक शिक्षा अधिकारी को बाल सेना की टोली के माध्यम से भी सूचनाएं एकत्रित करने का निर्देश दिया गया। उक्त बैठक में कालाजार के बारे में विस्तार से बताया गया तथा आशा , आंगनवाड़ी को सक्रिय भूमिका अदा करने का निर्देश दिया गया ।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी श्रीमती अनुज मलिक, मुख्य चिकित्सा अधिकारी नरेंद्र गुप्ता ,जॉइंट मजिस्ट्रेट पूर्ण बोरा एवं स्वास्थ्य विभाग के संबंधित अधिकारीगण मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here