आज समाजवादी पार्टी के नेता काली शंकर ने बाढ़ ग्रस्त गांव के दर्जनों गांव और बंधो का दौरा कर निरीक्षण कर ग्रामीणों के साथ प्रदर्शन किया. नदियों का जलस्तर बढ़ने से तटबंध पर दबाव बढ़ गया है और हालत नाजुक है अभी भी तटबंध पर रेन कट और रेट होल है जिस को सही नहीं किया गया है तथा सैकड़ों एकड़ खेती डूब चुकी है और जनता के घरों में भी पानी घुस चुका है अभी तक सरकार की तरफ से कोई संज्ञान नहीं लिया गया.

काली शंकर ने बताया कि आज गांव में गरीब लोग कराह रहे हैं उनके गांव और घर डूबे हुए हैं घर में पानी कमर तक है परंतु सरकार अपना आंख और कान बंद किए हुए हैं

गांव में आज पीने के पानी की समस्या उत्पन्न हो चुकी है मूलभूत समस्याएं उत्पन्न है परंतु जिम्मेदार बेपरवाह है. जानवरों के लिए चारा नहीं है किसान मजदूर परेशान है सरकार को तत्काल इसका संज्ञान लेकर के उचित कार्यवाही करना चाहिए.

आज जयरामकोल, साधना, राजधानी, भरोहिया, जोगिया आदि का दौरा कर जनता के साथ प्रदर्शन पर सरकार का ध्यान आकृष्ट किया.

प्रदर्शन में एडवोकेट रंजीत, पिंटू पासवान, विक्रम, प्रिंस, देवेंद्र, भानमती, रामावती, गोबरी, बिंदा देवी, सुभावती, शांति, सुधा, रमणिया देवी, लालमति, देवरी, चन्न माहिया, सुनारी, जय गोविंद, राम लाल, पवन कुमार, श्याम देव, देवी शरण, दिग्विजय यादव, पारस, मनोहर और आदित्य।

सम्पादक
धीरज शुक्ल

4 COMMENTS

  1. Hjælp: Jeg kan ikke stoppe med at græde uden nogen åbenbar grund.

    Aileen Frederiksen,. Gråd ofte uden nogen reel grund kan være et tegn en person lider af ”fanget følelser” uløste følelser fra tidligere negative og
    traumatiske begivenheder, i henhold til holistisk læge Dr.
    Bradley Nelson.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here